बुधवार, 5 अक्तूबर 2016

अध्याय- 24: संसद/विधानसभाओं में

24.1    चूँकि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों को देश/राज्यों के 50 प्रतिशत से ज्यादा मतदाता सीधे चुनेंगे (अगला अध्याय), इसलिए प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्रियों के द्वारा पेश किये गये किसी प्रस्ताव/विधेयक को लोकसभा एवं राज्यसभा/विधानसभा एवं विधानपरिषद के 50 प्रतिशत से ज्यादा के बहुमत से पारित माना जायेगा; जबकि सांसद/विधायक/मंत्री द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव/विधेयक के पारित होने के लिए दो-तिहाई बहुमत की आवश्यकता पड़ेगी।
24.2    प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री अकेले; या मंत्रीपरिषद के 50 प्रतिशत सदस्य; या फिर, संसद/विधानसभा के दो-तिहाई सदस्य किसी प्रस्ताव/विधेयक पर ‘जनसंसदों’ की स्वीकृति के लिए; या फिर देश (या राज्य) भर में "जनमत सर्वेक्षण" के लिए अनुशंसा कर सकते हैं।
24.3    राष्ट्रीय संसद के वर्ष में कुल छह सत्र आयोजित होंगे- शिशिर, बसन्त, ग्रीष्म, वर्षा, शरत् और हेमन्त; ये अधिवेशन बारी-बारी से देश के छहों अँचलों में होंगे, और प्रत्येक अधिवेशन न्यूनतम 21 दिनों का होगा। (बेशक, छुट्टियों को घटाकर।)
***
 'घोषणापत्र' का PDF संस्करण डाउनलोड करने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आह्वान

साथियों,  जय हिन्द 1943 में 21 अक्तूबर के दिन सिंगापुर में नेताजी सुभाष द्वारा स्थापित "स्वतंत्र भारत की अन्तरिम सरकार" ...